दीया राजस्थान द्वारा महाविद्यालय में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन

जयपुर : दीया राजस्थान द्वारा महाविद्यालय में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का एक नया स्वरुप स्थापित करने का विगत तीन वर्षों से प्रयास किया जा रहा है,वर्ष २०१७ में आयोजित परीक्षा के तीन चरणों की एक संक्षिप्त रिपोर्ट दीया लोकेश द्वारा तैयार की है –

वर्तमान समय में शिक्षा के बढते स्तर से विध्यार्थियों में जानने की क्षमताओं का विकास तो हुआ और बौद्धिक स्तर भी बढा किन्तु जिज्ञासा बढ़ने के स्थान पर तर्क करने की क्षमताएं अधिक विकसित हुई हैं। सांस्कृतिक मूल्य अर्थात विद्या के अभाव में विकसित हुई यह बौद्धिक क्षमता, प्रतिस्पर्धा का ऐसा स्वरूप प्राप्त कर लेती है जिसके कारण एक दूसरे से आगे बढने की हौड में विद्यार्थी अनेकों ऐसे कार्य करने लगते हैं जिनसे मनुष्यता का ह्रास होता दिखाई देता है। भारतीय संस्कृति विद्यार्थियों को प्रतिस्पर्धा के स्थान पर सहकारिता सिखाती है। मिल जुलकर किये गये कार्य ही मानवीय उत्कृष्टता एवं फलस्वरूप राष्ट्रीय विकास और निर्माण में सहायक होते हैं।
सैद्दान्तिक एवं प्रायोगिक प्रकल्पों पर आधारित यह परीक्षा वर्ष 2016 में उत्साहजनक परिणाम के बाद दिया राजस्थान की नई टीम के सदस्यों द्वारा वर्ष 2017 में भी महाविद्यालय स्तर पर भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा आयोजित करने की जिम्मेदारी को पूर्ण निष्ठापूर्वक निभाया गया। दिया राजस्थान के विभिन्न कार्यो को प्रभावी एवं उद्देश्यपूर्ण बनाने हेतु केलवाड़ा कुम्भलगढ़ में आयोजित स्नेह मिलन समारोह में आंदोलन आधारित समितियों का गठन किया गया। जिसके अंतर्गत शिक्षा समिति के नए सदस्यों प्रणय त्रिपाठी, चयन त्रिपाठी, प्रज्ञेश यादव, शिवसुत जी, आदित्य जी, परमेश पण्ड्याजी, धीरज यादव के माध्यम से महाविद्यालय पर त्रिस्तरीय भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के सभी आयामो को सफलतापूर्वक संपादित किया गया।
निर्धारित योजनानुसार प्रथम स्तर की परीक्षा 7 अक्टूबर 2017 को बहुविकल्पीय लिखित परीक्षा के माध्यम से सम्पन्न हुई जिसमें राजस्थान के 25 जिलों के 105 महाविद्यालयो के लगभग 4500 विद्यार्थियों ने भागीदारी की जिसमे आई आई टी, एम्स एवं राज्य के अन्य प्रतिष्ठित संस्थान भी शामिल थे। इस परीक्षा का मूल्यांकन स्थानीय स्तर पर समय पर किया गया एवं प्रत्येक महाविधालय से दस विद्यार्थियों की मेरिट सूची जारी कर जिला स्तर पर आयोजित दूसरे स्तर की परीक्षा के लिए विद्यार्थियों को आमंत्रित किया गया।

You may also like...